Maa Ne Help Kiya Bhai Behan Ki Chudai Ke Khel Me

Monday, 28 August 2017

Hi, friends mera naam Suman hai or main ye jo story post karne ja rahi hu woh mere aur mere bhai (Manish) k beach abhi kuch hi dino pahle ghati thi, main or mera parivaar new delhi me rahte hai, mere bhai ne v issi site pe bahut saree chudai ki story post ki hue hai, kyunki usne mere mom ko roj choda hai or apna experience share kiya hai.
Jab usne mujhe ye baat batai to main v apni or apne bhai ki chudai ki story likhne k liye ready ho gaye or uske yahoo id se main ye story aap logo ko pahucha rahi hu, doston agar aap logo ko ye story pasand aaye to mujhe mere bhai k yahoo id-manishsaxena166@yahoo, com pe mail jarur karein, mujhe apke mail ka intezaar rahega, to chaliye main aap logo ko jyada bore na karte hue main apni story pe aati hun.
Jaisa ke maine aapko bataya ki main delhi ki rahne wali hun, or mere age abhi 18 saal hai, 18 saal k age me hi mere boobs kisi 21 saal ki girl ki tarah bade-bade or phue hue hai, mere waise to normally short clothes hi pahnti hun, jismai mere gand or jyada bade-bade ho jate hain, or mera gora rang dekh kar kopi v mujhe apne sapno me soch soch kar muth marne lgega, mere puri body ai hi aise, mai apne bhai k bare me thora bata dun, uske age 23sal ki hai, or woh thora thora handsome v hai. Gym jane ke karna uski body ek dum 40 saal k mardon jaise ho gaye hai, uske 10 inch k lund jo bahut mota hain, chudai karte samye main bahut chillati hun kyunki uske mote lund mere kuwari chut me jab jata hai to mere jaan hi nikaal deta hai.
Ye ghjatna mere sath kuch din pahle hi ghati thi, mere ghar me main, mera bhai or mom rehti hai, shuru shuru mian sex k prati ko intrst nahi tha, lekin ek din jab main school se bank marke apni sahliyoon k sath movie dekhne aye hue the, jo ki ek adult type movie thi, ham sab saheliyaan platinum ka ticket lekar pltinaum wali sheet pe jaake baith gaye, itne me movie shuru ho gaye, movie me kafi hot hot scene the, maine dekha ki mere sheet k piche ek couple baitha hua hai or woh log aapas me kiss kar rahe the, usme jo lady thi woh us aadmi k lund ko pakad k upper-niche kar rahi thi, andhera jyada hone k karna mujhe bas unki body hi dikhaye de rahi thi.
Main unhe dekhakar thori-thori garam hone lagi thi or main apni chut me v fingur dalke sahlane lagi thi, mujhe bahut maza aa raha tha or woh dono to ab chudai karne lge the, mujhe ye dekh kar bahut maza aa raha tha, fir thori der me mera pani nikal gya, mujhe bahut maza ya, fir woh dono v jhad chuke the, kuch de raise hi dekhne k bad movie khatam hoo gaye, or lights on ho gaye, main pichhe mud kar dekh to mere hosh ud gaye woh mera bhai (manish) or mere mom (sangita ) the, maine apne aap ko jaise taise unse chupya or ham log bahar nikal haye.
Jab main ghar aa rahi thi to maine socha ki mom or mere bhai aapas me chudai karte hai, shuru-shuru me to mujhe bahut gussa aya lekin baad me maine soncha ki dad ki death hue v kafi tym ho gya or mom ko v kisi ki jarurat thi to mom ne ghar me hi chudai karna sahi samjha, itne me mahshus kiya ki mere chut dibara se gili ho chuki hai, mujhe ab is sab main bahut maza ane laga tha. Main mann hi mann soch rahi thi ki kash main v apne bhai se chudwa sakti, mera bhai v mujhe jam kar chodta sari raat, maine soch ki main jarur apne bhai se chudwaungi,
Kuch dn aise hi bit gaye main roj raat me mummy or bhaiya ki chudai dekhti thi or rooj raat me apni choot me kabhi ungli to kabhi candel ghusatithi, ab maine jitna chota kada hota tha main usse hi pahan k bhaiya k samne jati thi, or unko apni gaand matka matka k dikhati thi, mujhe lagta tha bhaiya v mujhe note kar rahe hai, maine apne kapdo k ander bra or penty v nahi pahnti thi, jisse mere boobs kafi hilte the aur jab main bhiya k paas pahuchati thi. Main jor-jor se uchalne lagti thi jisse mere boobs or tezi se upper niche hote the, main notice kiya tha ki bhaiya ka lund khada ho raha hai, mujhe apna kaam banta nazar aa raha tha,
Ek din jab bhaiya mom ki chudai kar rahe the to...
Bhaiya-aajkal suman badi ho gayi hai, uske boobs mujhe deewana ban rahe hai. Mom-to kya hua chod de usse, maine v nate kiya hai ki woh kuch dino se bahut chudai mang rahi hai
Bhaiya-haan main achcha mauka dekh k usse kal chod dunga.
Maine unki ye baateen sun k maze main jhumne lagi, aue apne kamrte main aker fingering karke soo gaye or agle din ka wait karne lagi
Agle din jab main so rahi thi to maine raat me sote samay kuch nahi pahna tha, or bas ek kapda dal k hi so rahi thi, itne main mom mere kamre me aa gaye or mujhe nanga dekh kar unhone bhaiya ko ishara kiya, mere neend thori-thori khul chuki thi maine dekha ki mom bhaiya dono mere samne khade hain or mom bhaiya ko dheere se boli ki ye achcha mauka hai chod de, main mann hi mann khush hue or sone ka natak karne lagi. itne main mom door band karke chali gaye. Bhaiya mere paas dheere dheere aye aur mere boobs ko pakad k masalne lage, maine sone ka natak kiya fir unhone mere upper se kapda hata diya or mere pura badan nanga ho gaya, maine abhi v sone ka natak kiya.
Fir bhaiya mere upar aa gaye or mere hontho pe kiss karn lage, woh mere hontho ko chuse jaa rahe the, maine ek dum se apni ankhe kholi lekin bhaiya ko mujhse darr nahi laga maine jhuta mutha natak kiya or apne apko chudane lagi lekin bhaiya k body kea aage mere ek na chali or fir maine haar maan li, mere mann ki murad jo puri ho rahi thi fir unhone mujhe uthaya or mere apna 10 inch ka lund bahar nikal diya, shuru-shuru me to mujhe bahut maza aaya, lekin ek dum se woh mere balon ko pakad k mera muh apne lund ko taraf le gaye or maine unke lund ko chusne lagi mere pura muh unke lund se bhar gaya tha or main saans v nahi le paa rahi thi.
Wo ankhe band karke maze liye jaa rahe the, lagbhag 15 minut tak mujhe lund chusane ke baad woh jharne lage or sarra virya woh mere muh me hi dal diya mera muh unke virya se bhar gya tha, maine saara virya pi gaye, fir unhone mujhe jhukne ka ishara kiya aur main khuk gaye fir unhone mere chut k paas apna muh le jake chatne lage mujhe bahut annand aa raha tha, lagbhag 10 min tak mere chut chatne k baad main jhad gaye or unhone mera saara virya pi liya,
Iske baad woh mujhe seedha lita diye or mere chut pe cream lake laga di ayr apna kala lund lekar mere chut k muh par rakh diya mujhe bahut dard ho rha tha, fir woh mere lips pe apni lips ko rakh diya or ek jordar jhatke k sath apna adha lund mere chut me daal diya mere to jaise kisi ne garam garam loha daal diya ho aise halat ho gaye the, main chillana chahti thi lekin unhone mujhe muh se band ka rakha tha, mere ankhon me ansu aa gaye.
Fir unhone ek jor dar jhatka mara or unka pura lund mere chut ko pharta hua andar chala gaya, main to behosh hone wali thi, fir dheere-dheere woh jhatka marne lage or mera dard kuch kaam ho gaya ab main maze se chud rahi thi or sisakriyaan “aahhhhhhhhhhhiuuuuuuuaaaa” bhare jaa rahi thi. Wo mujhe or jor se chode jaa rahe thae or mujhe maza aa raha tha, lagbhag 25 minute ki damdar chudai karne k baad wo jhar gaye or main v unke sath ki jhar gaye.
Fir uss din bhar hamne 5 baar chudai ki, mere se chala v nahi jar aha tha , lekin baad me mom ne mujhe cream laga di mere chut pe mere chut to puri fat gaye the or usme se halka halka khoon nikal raha tha.

Read more...

Indore Me Bhabhi Ki Mast Chudai

Sunday, 27 August 2017

Hello friends, main hu Rahul, meri umar 22 saal hai, aur main basically indore se hun or main ek business man hun, main aaj apni ek story share karna chahta hoon, mujhe shuru se hi bhabhiyo me bahut interest raha hai or mari story bhi ek bhabhi se hi judi hui hai unka naam Kalpna hai woh bhi indore se or ha ek baat or woh mere cousin brother ki wife hai ye baat aaj se ek mahine pahle ki hai baat us samya ki hai jab mere brother k ghar ka inauguration tha or mere brother ne program ko manage karne k liye mujhe bulaya tha.
Kyun ki unke yaha koi tha nahi jo sab manage kar sake to main chala gaya, ab main apko meri bhabhi k bare me bata hun woh bahut hi beautiful hai and uka figure itna sexy hai ki koi bhi unpar fida ho jaye unka sari pahnne ka tarika masha allah kya kamar hai unki dekhte hi katne ka mann karta hai, to story yaha se shuru hoti hai jab main unke ghar gaya tab bhabhi ghar shif karne ki teyari me lagi hui thi.
Aur bhaiya ghar par nahi the woh job karte hai to sham ko hi aate hai, main gaya to bhabhi ne mujhe bethaya or pani pilaye fir kuch der baad main bhi unke saath saman pack karane me lag gaya, aaj se pahle maine bhabhi k liye kabhi galat nahi socha tha apr aaj jab ai bhabhi k sath saman pck kara raha that oh mera haat usne baar baar touch ho raha that oh kuch der baat mere andar aag lagne lagi to ab mai jaan buj kar unko baar baar touch karne laga mai kabhi unko kamar mai touch karta to kabhi jang par but mujhko kuch nahi bol rahi thi kuch samay aisa hi chalta raha fir kuch der baad maine notice kiya woh bhi mujhe touch karne lagi or ek samay aisa aaya k jab hum dono itne pass khade the pure ek dusre ko touch ho rahe the aise karte hue hame lagbhg 2 ghante ho chuke the ab bhabhi ko dekh kar aisa lag raha tha k woh ab full josh me aa gayi hai but mujhe dar lag raha tha k ekdam se main kaise kuch karu.
To maine us din kuch nahi kiya isi bich main chalte firte bhabhi ko halka halka touch kar diya karta tha or kabhi kabhi woh bhi ab mujhko touch karne lag gayi thi, main samajh gaya tha k bhai bi wahi chahti hai jo main chahta hun fir main bhabhi ko chodne ki planning karne laga isi doran bhabhi k yaha kuch guest aa gaye to unko Ujjain jana tha ek shaadi me or humko bhi jana tha toh hum bhaiya ki car se ujjain gaye us waqt car me bhabhi mere sath pichhe wali seat par baithi thi or mujhe mouka mil gaya bhabhi ko chhedne ka to maine bhabhi ki kamar me dhire dhire haat ferna shuru kiya kuch der ese hi chata raha fir mujse raha nahi gaya to mai ab bhabhi k boobs press kar diya bhabhi kuch nahi boli to mera confidence or bad gaya fir jab hum ujaain pahuch gaye to hum vaha ek hotel mai ruke the sab taiyar ho rahe the sham ko program k liye or main bhi usi room me tha us samaya woh 4-5 log the jo teyar ho rahe the sab ready ho kar chale gaye.
Ab main or bhabhi hi bache the baki, main washroom me tha face wash kar raha tha or washroom ka gate khula tha to maine dekha bhabhi sari change kar rahi hai kya sexy lag rahi rahi thi bata nahi sakta maine socha ye moka hai to main bhabhi se cream lene k bahane unke paas chala gaya us waqt unhone sari nahi pahan rakhi thi or mai cream k bahane unke itni kareeb chala gaya k mai almost unse chipak hi gaya tha bhabhi purse me se cream nikal rahai thi or main unki kamar dekh raha that oh mujhse raha nahi gaya or maine unki kamar mai haat daal diya or woh mujhe ghurne lagi or bolne lagi k ye kya kar rhe ho itne mai maine unko pakada or smooch karna shuru kardiya woh mujhse alag hone ki koshish karne lagi but maine unko itna tight pakada hua tha ki woh chhoot hi nahi pa rahi thi fir maine dhire dhire unko kiss karte hue unki kamar mai haat ferne laga.
Ab woh mujko kuch nahi bool rahi thi ab woh bhi full josh mai aa gayi thi fir dhire dhire mai unke boobss press karne lage kya boobs the yar unke jab maine unka blaous khola tha dekhta ho reh gayaek dam pink pink chuchiya thi unki or mai unko kiss karte hue unke boobs chusne laga to woh aaaahhhh uuuuuuhhhhhhh ki avaj nikalne lagi fir dhire dhire mai unki kamar par kiss kane laga jo mujhe bahut pasand hai kiss karte karte maine unka peticot utar diya ab woh mere samse only panti mai thi kya sexy kag rahhi thi fir kiss kartte hue mai unki chut par pahuch gaya or panti k upar se hi kiss karne laga fir dhire dhire maine apne danto se unki panti kholi kya waqt tha yar wo,unki penti khol kar ab mai unke pairo se kiss karte hue unki jango ko chumte hue unki chut ka raas pine laga or bhabhi apne haatho se mera sar unki chut mai dabane lagi or siskiyaaa bharne lagi…karib 10 min, tak mai unki chut chata raha fir dhire dhire mai unki kamr se hote hoon.
Unke boobs chusne laga ab woh itni garam ho chuki thi ki unse raha hi ja raha tha but mujhse bol kuch nahi rahi rahi thi to maine unko or nahi tadpate hue apna lund unki chut me daal diya, aur dhire dhire dhakka maarne laga, mera lund garm samandar me dakhil ho chuka tha, mujhe masti ka ehsaas ho raha tha, aur main dhakke pe dhakke maar raha tha or ab dhire dhire woh bhi maje lene lagi, Main chodta raha, aur wo gand uchhal uchhal kar maje lootne lagi. Unki tight chut ki garmi se mujhe behad maza aa raha tha.
Fir jab humne chudai khatam kiya to woh bahut khush dikhai de rahi thi to maine puch liya bhabhi kaisa laga to boli life me pehli baar main puri tarah se satisfy hui hun tumhare bhaiya itna maja nahi dete hai, fir hum indore wapas aa gaye or kai fir indore me bhi hamne chudai ki hai. woh story mai baad mai sunaunga, ok guysss byeee fir milte hai or ha ek baat or agar indore mai koi bhi bhabhi ya gal apni life enjoy karna chahti hai to mujhe comments se batayen. Kahani padhne k baad apne vichar niche comments me jarur likhe, taaki hum apke liye roz or behtar kamuk kahaniyan pesh kar sake.

Read more...

क्योंकि वो समलैंगिक ह

Saturday, 12 August 2017

आपकी खिदमत में पेश है एक और सच्ची कहानी जो समलैंगिक जिंदगी के एक और पहलू को उजागर करती है।
यह कहानी राजस्थान के जोधपुर की है.. पात्र के आग्रह पर उनका बदला हुआ नाम यहाँ पर प्रयोग करूंगा क्योंकि समलैंगिकता एक ऐसा अभिशाप है जिसको हमें सारी उमर भुगतना है..
खैर छोड़िए.. इस विषय का कोई अंत नहीं है इसलिए मैं कहानी की शुरुआत करने जा रहा हूँ।
मेरा नाम ललित है, मैं राजस्थान के जोधपुर का रहने वाला हूँ.. मैं समलैंगिक हूँ और मुझे लंड देखना व मुंह में लेकर चूसना पसंद है इस बात का पता लगे हुए मुझे ज्यादा दिन नहीं हुए थे।
कद-काठी की बात करें तो मैं थोड़ा मोटा हूँ.. मेरा बदन लड़कियों की तरह नर्म और मुलायम है… मेरी छाती कुछ कुछ लड़कियों जैसी है और मेरे बूब्स भी उभरे हुए हैं.. जब टी-शर्ट पहनता हूँ तो वो उभरकर ऐसे लगने लगते हैं जैसे मैंने ब्रा पहन रखी हो और उसके अंदर मेरे चूचे कैद हो रखे हों.. जब चलता हूँ तो मेरे चूचे उछलते हुए चलते हैं.. और कई मर्द उन्हें देखते रहते हैं।
लेकिन अभी तक मैंने कोई लंड हाथ में नहीं पकड़ा था और ना ही चूसा था।
एक दिन की बात है जब मैं अपने पास की मार्किट में कुछ सामान लेने गया हुआ था, मुझे पेशाब लग आया तो मैं वहाँ के एक मूत्रालय में गया।
जब मैं मूत रहा था तो मेरी नज़र पास में खड़े एक आदमी के लंड पर पड़ी.. उसका लंड सोया हुआ भी 6 इंच का था और उसके हाथ में लटका हुआ मूत की मोटी सी धार मार रहा था जिसका शोर पूरे मूत्रालय में सुनाई दे रहा था।
मैं तो उसके जबरदस्त मोटे लौड़े को देखता ही रह गया.. लेकिन जल्दी ही उसको भी पता लग गया कि मैं उसके लंड को देख रहा हूँ और देखते ही देखते उसका लंड खड़ा होने लगा।
उसका लंड किसी जैक की तरह ऊपर उठता हुआ पूरा तन गया.. अब वो उसको हाथ में लेकर हिलाने लगा जिससे उसका लौड़ा 8 इंच का हो गया और उसका लाल सुपाड़ा फैलकर लॉलीपॉप की तरह हो गया और उत्तेजना में उसके लंड की टोपी की त्वचा पीछे खुल गई जिससे उसके लंड में और ज्यादा तनाव आ गया और वो उसके हाथ में ही झटके मारने लगा।
अब मेरी भी हालत खराब हो रही थी, पहली बार लंड देखा था और वो भी इतना मोटा.. मैं तो तड़प रहा था उसे हाथ में लेने के लिए.. उसे जीभ फिराकर चाटने और चूसने के लिए..
वो आदमी भी मुझे देखते हुए कि मैं उसका लंड देख रहा हूँ, अपने लौड़े को हिलाए जा रहा था, उसके चेहरे पर हवस का नशा मैं साफ देख सकता था!
ना उससे बर्दाश्त हो रहा था और ना मुझसे, लेकिन मैं घबराहट की वजह कुछ बोल नहीं रहा था, क्योंकि कभी ऐसा किया नहीं था.. तो फिर उस अधेड़ उम्र के आदमी ने ही पहल करते हुए कहा- क्या बात है.. लेना है क्या?
मैंने हाँ में सिर हिला दिया।
वो फिर बोला- कोई जगह है आस-पास?
मैंने ना में सिर हिला दिया।
तो उसने कहा- ठीक है, मेरे पीछे पीछे आओ, मैं ले चलता हूँ तुम्हें!
उसने अपना खड़ा लंड मुश्किल से एडजस्ट करते हुए पैंट की चेन में अंदर धकेला और शर्ट से उसको ढकते हुए मूत्रालय के बाहर निकल गया..
मैं भी बिना कुछ सोचे समझे उसके पीछे पीछे चलने लगा।
मार्किट से कुछ दूर चलने के बाद हम इलाके के बाहरी हिस्से में आ गए.. जहाँ पर कुछ पुराने खंडहर थे।
वो मेरी तरफ मुडा़ और मुझे अंदर आने का इशारा करके एक खंडहर के अंदर चला गया.. वहाँ ज्यादा रोशनी नहीं थी इसलिए मुझे डर लग रहा था।
एक बार मन किया कि वापस भाग जाऊँ लेकिन फिर उसके मोटे लंड को चूसने के ख्याल ने मुझे उस खंडहर के अंदर जाने पर मजबूर कर दिया.. मैं भी अंदर चला गया।
जाकर देखा तो वो खंडहर की दीवार के साथ कमर लगाए हुए मेरा इंतजार कर रहा था।
मेरे अंदर जाते ही वो सीधा खड़ा हुआ और पैंट के ऊपर से ही लंड को पकड़कर हिलाते हुए मुझे दिखाने लगा और फिर उसको सहलाने लगा।
उसका लंड पैंट में फिर से तन गया।
अब उसने मुझे पास आने का इशारा किया।
मेरे पास जाते ही उसने अपनी पैंट उतार अंडरवियर नीचे खींच लिया और अपने लंड को आगे करते हुए मेरे हाथ में थमा दिया..
ओह.. क्या गजब भारी लौड़ा था उसका..
पहली बार किसी का लंड हाथ में लिया था.. मेरे तो मन में उसको चूसने की आग लग गई और मैं तपाक से नीचे बैठा और उसकी पैंट और अंडरवियर को घुटनों तक सरकाते हुए उसके लंड के सुपाड़े को मुंह में ले गया और उसको लॉलीपॉप की तरह चूसने लगा।
जैसे ही मैंने उस पर जीभ फिराना शुरु किया वो ‘आह.. आह…’ की आवाज निकालने लगा और बोला- पूरा ले ले मेरी जान…ये तेरा ही है चूस जा इसे.. आह.. कहकर उसने लंड मेरे गले में उतार दिया।
मेरी आंखें बाहर आ गईं… मैंने उसके हाथ सिर पर से हटाते हुए उससे दूर हटने लगा.. लेकिन उसने फिर से पूरा लंड गले तक दे दिया.. फिर अपने ही हाथों से आगे पीछे करते हुए मेरे मुंह को चोदने लगा।
उसने मेरे बाल अपनी मुट्ठी में भींच लिए और लंड को मुंह में पेलने लगा।
अब मुझे भी मजा आने लगा.. उसके लंड से हल्की हल्की वीर्य की गंध भी आ रही थी लेकिन उसका लंड चूसना मुझे बहुत अच्छा लग रहा था।
अब मेरे हाथ उसकी नंगी गांड पर फिरने लगे और मैंने उसे दोनों हाथों से दबा लिया और लौड़े को जीभ से चाटते हुए मजे से चूसने लगा।
5 मिनट तक ऐसे ही लंड चुसाई चली.. उसके बाद उसने मुझसे खड़े होने के लिए कहा।
खड़े होते ही उसने मेरे हाथ ऊपर करवा कर टी-शर्ट निकाल दी और मेरे चूचे नंगे हो गए।
उसने दोबारा अपना लंड मेरे हाथ में दे दिया… मेरे हाथ में लंड देकर वो आगे पीछे करने लगा और मेरे चूचों को मसलने लगा.. मेरे चूचों पर किसी मर्द के हाथों का अहसास मुझे पहली बार हुआ था और वो मुझे पागल किए जा रहा था.. मैं सिसकारी लेता हुआ चूचे दबवा रहा था और सेक्स में डूबता जा रहा था।
उसके लंड को इसी उत्तेजना में मैं जोर जोर से रगड़ने लगा.. वो भी पागल होने लगा.. हमारी आहें सारे खंडहर में सुनाई दे रही थीं।
अब उसने मेरे चूचे अपने मुंह में ले लिये.. हाय.. मैं तो मर ही गया.. उसकी गर्म जीभ जब मेरे निप्पलों पर तैर रही थी तो मैं आनन्द के सागर में डूबने लगा.. मैं मजे के मारे उसके बालों को नोचने लगा और उसका मुंह अपने चूचों में दबा दिया।
मेरे चूचे चूसते हुए उसके हाथ मेरे चूतड़ों पर फिर रहे थे और वो मेरी फांकों के बीच में उंगली फिराता हुआ मेरे चूतड़ों को सहला रहा था।
मेरा एक उसके लंड पर था और दूसरा उसके सिर के बालों को नोच रहा था।
कुछ देर वो ऐसे ही मेरे बदन से खेलता रहा, फिर उसने मुझे खंडहर की दीवार की तरफ मुंह करने को कहा।
मैं घूम गया और उसने मेरे हाथ दीवार पर चिपकाते हुए अपने हाथों के नीचे दबा लिये।
मैं नीचे से बिल्कुल नंगा अपने गोल गोल नंगे चूतड़ लिए उसके लंड पर अपने चूतड़ों को रगड़ रहा था..
वो भी पीछे से बिना लंड डाले ही मुझे बाहर से चोदने की कोशिश कर रहा था और धक्के मारते हुए अपने बदन को मेरे बदन रगड़ते हुए मुझे दीवार में धकेल रहा था..
उसका लंड मेरी गांड में घुसने के लिए फड़फड़ा रहा था.. अब उसने अपने दोनों हाथों को मेरी बगलों से आगे की तरफ निकालते हुए मेरे दोनों चूचों को दबा लिया और उनको भींचने लगा।
मैं बदहवास होने लगा.. उसके लंड का मेरी गांड पर रगड़ना और उसके सख्त हाथों का मेरे चूचों को दबाना.. आह.. आह… मैं उसके नशे में खो सा गया..
अब उसने मेरी गांड में लंड घुसाने की कोशिश तेज कर दी और मेरे छेद को लंड से टटोलता हुआ उसमें अपना 8 इंच का लौड़ा घुसाने की कोशिश करने लगा।
उसका लंड काफी लंबा भी था और मेरे चूतड़ मोटे होने के बाद भी छेद पर आराम से पहुंच रहा था।
वो मेरे ऊपर चढ़ने लगा.. जैसे कोई सांड किसी भैंस पर चढ़ता है लेकिन लंड अंदर नहीं जा रहा था।
मेरे कदम लड़खड़ाने लगे लेकिन अपना जोर लगाते हुए मेरे ऊपर चढ़ने की कोशिश करते हुए मुझे दीवार में धकेले जा रहा था और दोनों हाशों से मेरे चूचे भी मसले जा रहा था।
तीन चार कोशिशों के बाद उसका लंड का सुपारा मेरी गांड के छेद में घुसने लगा..
‘आह.. आह.. चला जा अंदर.. आह जा रहा है..’
‘आह.. मर गया..’
टोपी अंदर घुसने लगी..
‘आह..’
वो चढ़ता रहा..
‘आह.. आराम से..’
‘बस बस.. हो गया.. आह..ओह पूरा लंड अंदर घुस गया.. आह.. क्या गर्म गांड है तेरी हाय जान.. चोद दूं तुझे.. आह मेरी रंडी..’
कहते हुए उसने मेरे चूचों के निपल चुटकी में मसल दिए और मेरी गर्दन पर चूमने लगा।
धीरे अब उसने लंड को आगे पीछे धकेलना शुरु किया.. मेरा दर्द पहले से कम हो चुका था.. वो मेरे चूचे पकड़े हुए मुझे चोदने लगा.. उसके लंड ने मेरी गांड को खोल के रख दिया था जिसका अहसास मुझे अंदर बाहर जाते हुए लंड से हो रहा था।
उसने अपने एक हाथ की उंगली मेरे मुंह में दे दी, मैं उसे चूसने लगा और दूसरे हाथ से वो मेरी गांड को सहलाते हुए चोदने लगा।
उसके धक्कों से मेरा सिर दीवार पर टकरा रहा था और मैं छिपकली की तरह दीवार से लगा हुआ अपनी गांड उठाकर उससे चुदवा रहा था।
‘आह मेरी रानी.. तू तो गजब है..’ कहते हुए वो मेरी गांड को पेल रहा था।
पांच मिनट तक चुदाई चलती रही और उसकी स्पीड एकाएक बढ़ने लगी.. उसने मेरा गला पकड़ लिया और जोर जोर से धक्के मारने लगा।
वो मेरी गांड को फाड़ देना चाहता था।
अब मेरा दर्द बर्दाश्त के बाहर होने लगा और आंखों से आंसू आने लगे.. मैं रोता हुआ उससे चुद रहा था लेकिन उसके मोटे लंड की चुदाई मजा भी उतना ही दे रही थी।
वो चोदता गया.. चोदता गया.. और 2 मिनट बाद मुझे दीवार में धकेलते हुए मेरी गांड में वीर्य का फव्वारा मारने लगा.. और मेरे ऊपर निढाल हो गया।
उस दिन वो मेरी पहली चुदाई थी..
हम दोनों ने अपने कपड़े पहने और सही करके खंडहर से निकल लिए।
हमने फोन नम्बर भी लिए और उसने जल्दी ही दोबारा मिलने का वादा किया और हम अपनी अपनी राह चले गए।
एक हफ्ते बाद उसने मुझे फिर बुलाया.. हम उसी सुनसान जगह पर गए.. मैंने उसने लंड को पैंट पर से पकड़ कर हाथ में ले लिया.. उसका लौड़ा तन गया..
मैंने चेन खोलना चाही तो उसने मेरा हाथ रोक लिया।
मैंने कहा- क्या हुआ, आज नहीं चुसवाओगे क्या?
‘चुसवाउँगा… लेकिन तुम्हें मेरा एक काम करना होगा!’
‘क्या काम है?’
‘मुझे पैसे चाहिएँ?’
‘पैसे?’
‘हाँ पैसे…’
‘कितने पैसे चाहिएँ?’
‘पांच हजार…’
‘लेकिन इतने पैसे मैं कहाँ से लाऊँगा? ‘मैं तो एक स्टूडे़ंट हूँ और थोड़ी सी पॉकेटमनी मिलती है।’
‘कहीं से भी ला, मुझे नहीं पता!’
‘यह आप कैसी बात कर रहे हो? मैं इतने पैसे नहीं दे पाऊँगा।’
कहते ही उसने मेरे मुंह पर जोर का तमाचा मारा- साले गंडवे.. लंड तो बड़े मजे से चूस रहा था.. पैसे नहीं देगा?
मेरी आंखों से आंसू आने लगे..
अगले ही पल उसने मेरे सिर में पर थप्पड़ मारा- साले रंडी की औलाद! अगर लंड चाहिए तो पैसे ले आना.. नहीं तो मुझे फोन मत करना कभी!
कह कर वो मुझे रोता हुआ छोड़कर वहाँ से चला गया।
मुझे नहीं पता था कि एक समलैंगिक को अपनी इच्छा पूरी करने के लिए इतना जलील होना पड़ता है… मेरी आत्मा जैसे फूट फूट कर रो रही थी.. और भगवान से पूछ रही थी.. कि मुझे समलैंगिक क्यों बनाया तूने.. क्या मुझे सारी उम्र ऐसे ही रो रो कर जीना है?
दोस्तो, ललित सिर्फ अकेला ऐसा गे नहीं है जो इस तरह की प्रताड़ना का शिकार हुआ है.. पता नहीं कितने ही गे अपनी इच्छाओं को पूरी करने के लिए इस तरह की घटनाओं का शिकार होते हैं.. कुछ को लूट लिया जाता है और कुछ खुद ही लुट जाते हैं..
क्यों?
क्योंकि वो समलैंगिक है.. उनको एक सामान्य जीवन जीने का कोई हक़ नहीं है..?

Read more...

Majhi prem katha

Wednesday, 26 July 2017

Nisha majh nav, mi B.A. la 1st year hoti. Majga vay 18 varsh , vishal majhya class madhal mulaga khup hushar aani disala pan tevadhach shan to mala khup aavadhayacha pan to majhya kade baghatch navata. Majh laksh class madhe kami aani vishal var jast asayach tyachi najar ekhadya veles chukun padayachi aani lagecha to dusari kade baghayacha. Dhivas have sarakhe nighun jau lagale aani to mala jast-jast aavadhu lagala samajat navate kay karayache te as vathayach college la sutich nasavi aani mi vishal la roj baghatch rahav , aata dhivas jane kathin jhale hote mi tarval ki mi vishal la prapos karanar pan kewha kahi dhivasatch velantaen day hota mi taraval ki mi tyala tya dhivashi prapos karanar aani to dhivas aala mi ghulabache fhul ghetale aani college sathi nighali mi college la pohachali class madhe geli sarv muli mule class madhe hoti vishal pan hota, majha hatatla gulab pahun sarv students majhya kade baghat hote mi vishal kade valali aani tyacha javal geli to makjya kade baghu lagala mi hatatala gulab tyala det manali vishal tu mala khup aavadhatos "I LOVE YOU" sarv class shant jhala sarv students aamha dhoghakade baghu lagale. Tu kay pagal jhali aahes vishal manala tyani hatatala gulab tyani khali takun dhila aani to ragane manala majh tujhavar prem nahi aani punha majhya kade baghu nako aani to nighun gela. Majhya dolyat pani aale mi palat ghari aala majha tithe khup apaman jhala hota mi sarakhe radhu lagale mala vishavas basat navata ki vishal ni mala nahi mathale manun 1 dhivas 1 ratr mi sarkhi radat rahili aata mala phuna tya college mahde jayache navate karan mi jar tithe geli asati tar vishal la visaru shakali nasati manun mi tarvila mi punyala kaka kade shikayala janar aani mi punyala nighun geli punyala mi , kaka aani kaku tighech rahayacho vishal chi khup aathavan yet hoti baghata bhagta 3 varsha ulatun geli eke dhivashi kaka laganal jacha hot tyanchya mitracha lagn hot kaka aani kaku dhoghe pan sakalich nighun gele te parat sandhya kalich yenar hote, duparche 11 vajale paus suru jhal baracha vel nighun paus sarkhach chalu hoto prachand hava sutali mi ghari ekatich hoti, sandyakalache 5 vajale paus ajun jorat suru jhal kaka kaku ajun paratle navate 7 vajale kakacha phone aala te manale paus suru asalya mule te yeu shakanar tu jevan karun ghe aani aatun darvaja nit laun jhopun ja aamhi sakalich yeto ase kaka manale mi aat madhun darvaja laun ghetala aani pustak vachat basale ratriche 10 vajale konitari dore bel vajavali mi vichar kela ki yevadhya ratri kon asel mi darvajya kade valali aani darvaja ughadala baghate tar kon .... majhya samor ola chimb jhalela vishal ubha hota mala majhya dolyavar vishavasach basat navata mi ek sarkhi vishal baghu lagali tevadhyat vishal manala majhi gadi kharab jhali aani baher khup paus aani hava chalu mi aat yeu shakato, are as ka bolatos aat ye aadhi mi manali mi vishal la pahun khup khush jhali hoti tyani mala sangitale ki to punya madhe 1 mahinya aadhi company madhe manager chya post var kam kar aahe. to thandi mule thar thar kapat to purn ola hota mi tyala manali mi tavel gheun yete, mi tavel aanala mi tyala manali mi tujh dok pusun dete tyache purn kes ole hote mi halu vishalch dok pusu lagali ,tevadhyat jorat vij kadakalali mi bhiti mule vishal la mithi marali mi vishal la ghat mithit gheun hoti, haluch tyni majha kamare var hat tevale tyache hot majhya kesat guntu lagale halu halu tyni hat vart sarkavala aata tyani mala jorat javal vadhal to majya maniche chumban gheu lagala aata majha svas garm jhala vishal che hot aata mjhya hota kade valu lagale haluch tyachya hotacha sprsh majhya hotanna jhala tyachya svasacha garm havecha sprsh majhya galala hou lagala tyani hau halu majha dres kadhala tyani thanala hat lavala to hatani majhe than cholu lagala tyache hot aata majhya thana kade valu lagale haluch tyani majhe than tondat ghetale , to hotani majhe than choku lagala purn sharira madhe garmi pasaru lagali hoti, tyni majhe purn kes mokale kele to majhy ughadya pathi var hat firavat hota aani samorun hotani than chokhat hota aaj majhy sarv echa purn honar hotya aata to khali valala aata to majya maghun jhal tyani mala pthi kadun pakk pakadal majhys dhugnala tyacha danducha saprsh hou lagala haluch tyni hat khali sarkavala tyni aata majhya pand chya aat hat takala aata tyachya hatacha sprsh majhya yonila hou lagala majhya yonila tyachya hatacha sprsh hotach mi lagech dole mithale majhya purn angavar kate aale to aata majhi pand kadhanar hota tyani majha pand kadhala majhya angavar aata faktt nikar rahili hoti, tyani pan tyach shart aani pand kadhun takala aata tyachya pan angavar faktt andarwiyar hota aata majhi faktt nikar kadhayachi tyani tevali hoti, aata tyan haluch mala uchalale aani bed kade valala tyni aata mala bed var tevale, haluch tyani majhya nikarala hat lavale halu halu to majha nikar khali karu lagala tyni majha purn nikar kadhun bajula tevala aata majhya angavar tyani kahich teval navat, mi bed var sarl jhopun hoti to majhya paya kadun basala aani majhya mandila dharun tyni mala vadhal , tyani tongale var kele aata tyache hot majhya yoni kade valu lagale baghata baghata tychya hotancha sprsh majhya yonila jhal majhya yoni var thode thode kes hote to yonila hotanni chokhu lagala aata tyani tyacha dandu baher kadhala aani majya yonichya katavar tevala he majhya yonicha pahila anubhav hota aata halu halu tyacha dandu to majhya yoni madhe sarkau lagala mi tyala ghat pakadal tyani aata purn dandu aat takala hota aata tar mi tyala ajunch ghata pakadal to halu halu mage pudhe karu aani tyach barobar majhya tondat tond takat hota aata matr tychi mage pudhe karnyachi speed vadhali hoti to aata mala jorat karu mi pan tyala jorat majhya kade vadhat hoti purn sharir garm jhal hot shevati tyacha padhal , aani tynantar tyani mala ratri 5 vela kel aani to sakali nighun gela.

Read more...

मामी भाचा - Marathi font sex story

Sunday, 23 July 2017

केशव चा आणि कविताचा संसार अगदी मजेत चालला होता. एक दिवस केशवचा भाचा अनिल त्यांच्याकडे राहायला आला. तो सोळा सतरा वर्षाचा होता.
त्यांच्या गावात दहावी नंतर शाळा न्हवती. म्हणून केशवच्या गावी आला होता. अनिल सोळा-सातारा वर्षाचा असला तरी 25 वर्षाचा गडी वाटत होता. दिसायला सुंदर होता. घरात आला तेंव्हा कविता त्याच्याकडे बघतच राहिली.
रात्री लघवीला आल्याने अनिल बाहेर आला तोच त्याच्या कानावर केशव आणि कविताची कुजबुज आली. तो खोलीकडे वळला. त्याने फटीतून पहिले तर आतमध्ये बत्ती जळत होती. मामा-मामी पूर्ण नग्नावस्थेत होते.
त्यावेळी कविता मामी-मामाचा सोटा तोंडात घेऊन चोखत होती. अनिलच्या अंगावर काटा आला. लिंग ताठ झाले. खरेतर मामी त्याच्या मनात कधीच भरली होती.
मामा जेंव्हा मामी वर स्वार झालेला त्याने पहिला तेंव्हा त्याच्या काळजात धडधड वाढू लागली. तो तापू लागला. असेच आत जावे आणि आपण मामला ढकलून आपण स्वार व्हावे असे त्याला वाटत होते. मामा मामीला गचके देत होता. अनिल ने स्वताचे लिंग बाहेर काढले आणि लिंग हलवू लागला. आपण मामीच्या अंगाशी झोंबत आहोत अशी कल्पना करू लागला.
जेंव्हा त्याच्या लिंगाची पिचकारी दरवाज्यावर पडली तेंव्हा त्याला शांत वाटले.
काही दिवसांनी मामा कामासाठी बाहेर गावी गेला चार दिवसासाठी. दुपारी कोणीच न्हवते. अनिल अभ्यास करत बसला होता. कविता काम आटोपून अनिलच्या खोलीत आली.
ते बोलत बसले मामी अनिल चा देह न्याहाळत होती. तो बनियन वर बसला होता. अनिल म्हणाला मामी एक विचारू. “हो विचार कि.”
“मामी तुम्ही एवढ्या सुंदर देखण्या आणि नाजूक आमचा मामा आड दांड गाडी तुम्हाला कसा आवडला?”
आम्ही गरीब मानस आम्हाला आवडी निवडी कसल्या. मामीची नजर त्याच्या चेन कडे जात होती ती त्याने ओळखले आणि अनिल ने मामीला खसकन ओढले.
मी तुम्हाला मामाकडून झवून घेताना दररोज फटीतून पाहत होतो. अनिल ने आपली विजार काढली. अनिल ने मामीचे कपडे काढले. तो आपले लिंग मामीच्या गालावरून ओठांवरून फिरवू लागला. त्याने मामी सुखावत होती.
शेवटी अनिल कविताच्या देहावर स्वार झाला त्याचे एकाच असा फटका मारला मग अनिलच्या लिंगाने तिच्या योनीला गपकन मिठी मारली. कविता त्याच्या मिठीने सुखावली. त्याच्या लिंगाचा स्पर्श चांगलाच कडक आणि उबदार होता. त्याच्या फटक्याने कविता चित्कारत होती. कविताला खूप मजा येत होती. त्याने कविताचे पाय फाकवून मारलेले फटके तिच्या ओटीपोटावर आदळत होते. ती वेदनेने सणकून निघे. त्याने केलेली वीर्याची अंतर फवारणी कविताच्या योनीत शोषील जात होती. आपला भाचा वयाने लहान असला तरी काम्शात्रात महान आहे. हे तिला पटले होते.
अनिलच्या विर्याचा चिकट फवारा जोरदारपणे तिच्या योनीत पडला. मामाचा फवारा कधी च पडत नसे. मामीला अनिलच्या संगतीमुळे स्वर्ग सुख मिळू लागले. आता तर मामी भाच्यावर खुप च खुश होती. मामाच्या पुढ्यात साधा भोला अभ्यास करणारा अनिल मामाच्या गैर हजेरीत मात्र प्रेमाचा महाराजा होऊन कविताच्या सौंदर्यावर व जवनीवर राज्य करत होता. भाच्याच्या दुहेरी गेम मामला कधी कळलाच नाही.
मात्र दोन महिने लोटले आणि मामानी लग्ना नंतर चार वर्षांनी सर्वाना पेढे वाटले. त्याची कविता गरोदर असल्याचे डॉक्टरांनी सर्तीफीकेट दिले होते. मामाने अनिलचा पाय गुण चांगला म्हणून त्याला एक घड्याळ कविताच्या सांगण्या वरून बक्षीस म्हणून दिले. पण मामला कुठे कळले कि फेडे वाटण्याचे मुल कारण अनिलच आहे ते. त्याला वाटत होते कि ते मुल त्याचेच आहे. पण अनिल च्या विर्या पासून मामी गरोदर झाली होती. आता मामी खूप खुश झाली होती पण एक भीती तिच्या मनात होती होणारे मुल अनिलच्या वळणावर गेले तर काय करायचे

Read more...

इंजीनियरिंग की स्टूडेंट्स

Tuesday, 11 July 2017

दरअसल हुआ यूँ कि मैं एक दिन अपने कुछ दोस्तों के साथ शाम के वक्त क्रिकेट खेल रहा था। ग्राउंड के ठीक बाएँ हाथ पर कोने पर एक काफ़ी शॉप है। उसके सामने कुछ लड़कियाँ खड़ी लगातार मेरी ओर देखे जा रही थी और आपस में बात भी कर रही थी (शायद मेरे बारे में)
मेरे दोस्त बार बार मुझ पर ताने कस रहे थे। इसी बीच उनकी तरफ़ गेंद चली गई और मैं गेंद उठाने के लिए उनकी तरफ़ चला गया। लड़कियाँ इंजीनियरिंग की स्टूडेंट्स थी और शायद टयूशन पढ़ने के लिए यहाँ आई हुई थी। टयूशन सेंटर साथ में ही था और वो शायद किसी और सहेली का इंतज़ार कर रही थी।
उनमें से ठीक एक के पैरों में गेंद जा कर गिरी, उसके एक स्कर्ट और टॉप पहना था और स्लीव लेस जैकेट पहनी हुई थी। बला की खूबसूरत लग रही थी और रंग संगमरमर की तरह गोरा था। उसकी गोरी गोरी टांगों के पास गेंद जाते ही मेरा मन मचला मगर मैंने उससे कहा- मैडम क्या आप गेंद उठा कर दे देंगी प्लीज़?
वो झुकी और झुकते ही उसकी गोरी छाती दिखाई देने लगी। उसने गेंद मेरी तरफ़ फेंक दी पर मेरी निगाहें उस पर ही टिकी थी। तब तो वो चली गई लेकिन मैं उसके टयूशन से लौटने का इंतज़ार करने लगा। हुआ वही ! वो वापिस आई अपने सहेलियों के साथ। कुछ दूर मैंने उसका पीछा किया लेकिन उसके बाद उसके सहेलियां दूसरे रास्ते पर चली गई और वो अकेली आगे बढ़ कर रिक्शा को हाथ देने लगी।
मैंने बाईक तुंरत उसके सामने रोकी और सामने जाकर हल्की सी मुस्कान देकर मैंने कहा- कैन आई गिव यु अ लिफ्ट?
उसने मुझे पहचान लिया और वो भी थोड़ा मुस्कुरा दी लेकिन फ़िर भी मेरे साथ जाने से मना करने लगी। मैंने बार बार उससे आग्रह किया तो वो मान गई और मैंने उसके घर पर उसे छोड़ा। रास्ते में जब उसके बूब्स मेरी कमर पर लग रहे थे तो मुझे बड़ा मज़ा आ रहा था उससे मैंने उसका नंबर भी रास्ते में ही ले लिया।
रात को मैंने उससे फ़ोन पर खूब बात की और अगले दिन फ़िर उसे छोड़ने के लिए चला गया। आज उसने मुझे चाय का न्योता दिया, मैंने भी हाँ कर दी। घर में अन्दर घुसा तो वहां केवल उसके एक सहेली ही थी। दरअसल वो पेईंग गैस्ट रहती थी। उसने अपने सहेली से मेरा परिचय करवाया और फ़िर उसके सहेली किसी काम से बाज़ार चली गई।
ओह ! मैं आपको मेरी अप्सरा का नाम बताना तो भूल ही गया, उसका नाम था मीनू !
मीनू चाय बना कर ले आई और मेरे साथ बैठ गई। आज भी उसने स्कर्ट और टॉप ही पहने थे, लेकिन आज वाली स्कर्ट कुछ छोटी थी इसलिए जब वो बैठी तो मुझे उसके गोरी टांगों के साथ साथ उसकी जांघें भी दिखाई दे रही थी। हम कुछ बातें करने ही लगे थे कि मैंने सामने मेज पर रखा अखबार उठाने की कोशिश की और अनजाने में मेरा कोहनी उसके हाथ से टकरा गई और उसकी चाय उस पर गिर गई।
चाय कुछ टॉप पर और कुछ स्कर्ट पर गिरी थी। वो जलन के मारे उठ कर खड़ी हो गई और तड़पने लगी। मैं भी घबरा गया और मैंने तुंरत उसका टॉप को थोड़ा सा ऊपर उठा दिया, उसने बिल्कुल मन नहीं किया क्योंकि उसको बहुत जलन हो रही थी। उधर जांघों की भी हालत ऐसी ही थी, इसलिए वो बार बार पैर पटक रही थी। तो मैंने स्कर्ट भी उठा दी और उसे बाथरूम में ले गया ताकि उस पर पानी डाल सकूँ।
मैं अपने हाथ में पानी लेकर पहले उसके पेट पर और पेट से कुछ ऊपर और फ़िर स्कर्ट को पूरी तरह से उठा कर उसकी टांगों पर और जाँघों पर पानी डाल रहा था। वो इस बीच केवल हल्के हल्के रो रही थी। यह सब कुछ ऐसे हो रहा था जैसे वो कोई छोटी बच्ची हो और मैं उसे बहला रहा हूँ और शर्म-हया जैसी कोई बात हमारे बीच में हो ही न।
अब मैंने उससे पूछा- क्या तुम्हारे पास बर्नोल या कोई और क्रीम है?
तो उसने कहा- हाँ है !
मैंने क्रीम उससे ली और उससे कहा- अपनी टॉप उतार दो मैं क्रीम लगा देता हूँ।
मेरा मन अब बेईमान हो चुका था। पहले तो वो झिझकने लगी मगर फ़िर मान गई। मैंने उसे मसलना शुरू किया और धीरे धीरे हाथ ऊपर ला कर उसकी गुलाबी ब्रा के ऊपर से ही उसकी चुचियों को भी छेड़ देता। उसे भी शायद मज़ा आ रहा था।
कुछ देर में उसने कहा- रोहित ! तुम करना क्या चाहते हो?
मैं समझ गया कि उसके कहने का मतलब क्या है, मैंने कहा- वही जो तुम समझ रही हो।
उसने कहा- तो फ़िर खुल के करो ना !
अब क्या था, मैंने काम शुरू कर दिया और सीधे उसके होठों पर किस कर दिया और उसके होठ चूसने शुरू कर दिए। उसका चेहरा लाल हो गया था। मेरे हाथ उसकी चूचियां मसल रहे था और अब मैंने उसकी ब्रा का हुक भी खोल दिया। क्या गज़ब का फिगर था उसका ! चुचियाँ एकदम गोल और संतरे जैसी एक दम टाइट !
मैंने उसकी चुचियों को पीना शुरू कर दिया और वो मज़े से आह उह करने लगी। उसकी उंगलियाँ मेरे बालों में थी और वो बस गरम हो रही थी। मैंने तुंरत नीचे खिसक कर उसकी स्कर्ट बिल्कुल ऊपर कर दी और उसकी पैन्टी नीचे खींच दी। उसने मेरा मदद करते हुए अपनी पैंटी को टांगों से अलग करके फेंक दिया और अब वो बिल्कुल पूरी तरह से मेरे हवाले थी।
उसकी चूत पर हल्के हल्के बाल थे जो बहुत खूबसूरत लग रहे थे। मैंने तुंरत उसकी चूत पर जीभ लगा दी और चूसना शुरू कर दिया। वो बिल्कुल मचल उठी। मीनू ने झटके से मेरा सर ऊपर उठाया और मेरा टी-शर्ट उतारने की कोशिश करने लगी। मैंने देर न करते हुए तुंरत अपनी टी-शर्ट और जीन्स उतार दी और अपना अंडरवियर भी उतार दिया।
मेरा लंड देखते ही वो मानो डर सी गई और कहने लगी- तुम इसे मत डालना प्लीज़ !
मेरे लंड का साइज़ ८ इंच है जो लगभग ३ इंच से ज़्यादा मोटा है। मैंने उसे थोड़ा सा प्यार किया उसके होठों पर दोबारा किस करना शुरू किया और इस बीच उसने मेरा लंड हाथ में ले लिया और उससे खेलने लगी। थोड़ी ही देर में वो मस्त हो चुकी थी और मैंने उसकी टांगें खोल कर लंड को उसकी चूत के मुंह पर लगा दिया।
उसकी चूत एक दम फ्रेश थी इसलिए लंड आसानी से जा नहीं रहा था। मैंने बहुत सारा थूक लेकर लंड पर और उसकी चूत पर लगाया और लंड को एक ज़ोरदार धक्का दिया और लंड अन्दर घुस गया लेकिन अभी भी लंड पूरा अन्दर नहीं गया था। वो दर्द के मारे चिल्ला उठी और बस यही कह रही थी- रोहित प्लीज़ ! ये मत करो रोहित ! मैं मर जाउंगी रोहित ! मेरा चूत फट जायेगी रोहित ! प्लीज़ मत करो रोहित !
लेकिन मैने लंड बाहर नहीं निकाला और थोड़ी देर रुका रहा। जब वो कुछ सामान्य हो गई तो मैंने धीरे धीरे लंड हिलाना शुरू किया और उसके बाद उसे भी कुछ मज़ा आने लगा। मैंने उसे लगभग १५ मिनट तक खूब चोदा और इस दौरान वो ३ बार झड़ चुकी थी और अब मेरा भी पानी निकलने वाला था।
मैंने तुंरत लंड बाहर निकाला और उसके मुंह के पास ले गया और उससे मुंह में लेने को कहा। वो मना करने लगी लेकिन फ़िर भी मैंने लंड उसके होठों पर लगा दिया तो वो मुंह में लेने लगी और फ़िर मेरा सारा पानी पी गई। उसके बाद उसने मेरा लंड खूब चूसा और मैंने उसे उसी दिन २ बार और भी चोदा।
अब भी हमारी कहानी जारी है और मैं उसे बाईक पर उसके घर छोड़ने के लिए जाता हूँ और जिस दिन भी मौका होता है उसे खूब चोदता हूँ !

Read more...

Featured post

माँ के बदले में माँ की

सोनू और मैं अच्छे दोस्त थे मुझे पता था सोनू भी मेरी तरह चूत का प्यासा है. हम दोनो ने कुछ कॉल गर्ल को भी चोदा है. अब तो रोज मुझे उषा आंटी को ...

  © Marathi Sex stories The Beach by Marathi sex stories2013

Back to TOP